लोकसभा 2019 : मोदी को मात देने के लिए विपक्ष का हथियार बनेगा ‘ट्रंप का चाणक्‍य’

नई दिल्ली – विपक्ष और बीजेपी अभी से 2019 लोकसभा की तैयारियों में लग गया है। विपक्ष कि बात करें तो शायद विपक्ष समेत संभावित महागठबंधन को भी समझ में आ गया है कि अगर 2019 में मोदी लहर का सामना करना है तो उसके लिए कोई बड़ा हथियार इस्तेमाल करना होगा। इसलिए विपक्ष ने डोनॉल्‍ड ट्रंप को विपरीत हालातों में अमेरिकी राष्‍ट्रपति का चुनाव जिताने में अहम भूमिका निभाने वाले रणनीतिकार अलेक्‍जेंडर निक्‍स से संपर्क किया है। हाल ही में अलेक्‍जेंडर 1 दिन के लिए भारत आए थे और उन्‍होंने विपक्ष के कुछ नेताओं से मुलाकात की है। Donald trumps strategist Alexander nix.

 ट्रंप को चुनाव जीता चुके हैं अलेक्‍जेंडर निक्‍स :

अलेक्‍जेंडर निक्‍स ने अमेरिका के चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप को विपरीत हालातों में चुनाव जिताया था। वो अलेक्‍जेंडर निक्‍स ट्रंप ही थे जिन्होंने ट्रंप के लिए ‘मेक अमेरिका ग्रेट अगेन’ कैंपेन चलाया था और जिससे काफी फायदा हुआ। सूत्रों के मुताबिक निक्‍स विपक्ष के लिए 2019 में मोदी की काट का फार्मूला तैयार करेंगे। निक्‍स ने हाल ही में विपक्ष के कुछ नेताओं से मुलाकात भी की है। हालांकि, विपक्ष ने अभी तक 2019 के लिए कोई रणनीति नहीं बनाई है। लेकिन इतना तो तय है कि वो 2019 में विपक्ष का हथियार होंगे।

बीजेपी के लिए ये हैं चौकाने वाले आंकड़े :

बीजेपी के लिए निक्‍स से कहीं ज्यादा हैरान करने वाले आंकडे सामने आये हैं। साल 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 282 सीट पर जीतकर पूर्णरूप से सरकार बनाई थी। लेकिन, उस वक्त मोदी लहर तो थी लेकिन कांग्रेस में भी काफी उठापटक चल रही थी। जिसके कारण कांग्रेस को बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा। लेकिन, साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों में कांग्रेस पूरी प्लानिंग के साथ आती है तो बीजेपी पर भारी पड़ सकती है। क्योंकि, कई सर्वे के मुताबिक, आम लोग पीएम मोदी से तो खुश हैं लेकिन बीजेपी के सांसदों से काफी नाराज हैं।

मोदी को हराने के लिए लगेगा बिहार फार्मूला :

हालांकि, विपक्षी पार्टीयां गठबंधन की कोशिश तो कर रही हैं, लेकिन इस तरह की कोशिशें ज्यादातर नाकाम होती है। लेकिन, इस बार विपक्षी दलों के पास एकजुट होने के अलावा कोई विकल्प भी नहीं दिख रहा है। हालांकि, इस तरह के महागठबंधन के प्रयोग पहले भी कई बार किया जा चुका है लेकिन इसमें सफलता न के बराबर मिली है। लेकिन अगर इस बार महा-गठबंधन बन जाता है तो वाकई 2019 में हमें मुकाबला देखने को मिलेगा। उत्तर प्रदेश चुनावों में भाजपा की धमाकेदार जीत को देखते हुए लगभग सभी दल 2019 में महागठबंधन बनाने की वकालत कर रहे हैं।