लड़की का अंतिम संस्कार कर घर पहुँचा परिवार, तभी आ गया उसी लड़की का फोन-पूरी घटना जानकर कांप जाएंगे

मध्यप्रदेश – कभी कभी हमारे सामने कुछ ऐसी घटनाएं आ जाती हैं जिनपर भरोसा करना काफी मुश्किल होता है। ऐसा ही एक मामला हाल ही में सामने आया है जिसमे एक लड़की मरकर भी ज़िंदा मिली। खबर के मुताबिक, परिवार ने जिस लड़की का अंतिम संस्कार किया वह ‘मरकर भी जिंदा’ मिली। हो सकता है आप भी ये पढ़कर चौंक गए हो। लेकिन यह खबर पूरी तरह से सच है। मामला मध्य प्रदेश के सतना जिले का है। दरअसल, एक लड़की को उसके परिजनों ने मरा समझकर उसका अंतिम संस्कार तक कर दिया था। लेकिन सबके होश उस वक्त उड़ गए जब उस मृत लड़की ने उन्हें फोन कर दिया। जी हां, मृत लड़की के अंतिम संस्कार के बाद आये इस फ़ोन से सभी घरवालों के होश उड़ गए। तो आइए आपको बताते है कि पूरी कहानी क्या है।

क्या है पूरी कहानी?

इस पूरी घटना में ध्यान देने वाली बात ये है कि अगर वो लड़की जीवित थी तो परिवार ने अंतिम संस्कार किसका किया? आखिर वह कौन थी? दरअसल, पूरा मामला ये है कि पुलिस को कुछ दिनों पहले एक लड़की की लाश मिली थी। पुलिस को शक था कि ये लाश इस परिवार से ग़ायब हुई लड़की की है। इसलिये, लड़की की लाश की पहचान लड़ने के लिए के परिजनों को बुलाया गया। रिपोर्ट के मुताबिक, मझगवां के पिण्ड्रा कैलासपुर से इस परिवार की एक लड़की लापता हो गयी थी। इसलिए इस परिवार ने इसकी शिकायत पुलिस में की थी।

इसी बीच पुलिस को 23 मार्च को रीवा जिले के हनुमना थानान्तर्गत कचनार ग्राम में एक लड़की की लाश मिली। पुलिस को शक था कि यह लाश उसी लड़की की है जिसके लापता होने की रिपोर्ट लिखवाई गयी है। लेकिन वह शव उस लड़की का नहीं बल्कि किसी और का था। ये बात मालूम होने के बाद मामले पुलिस ने किशोरी को उसके दादा के गांव से बरामद कर लिया है। इसके बाद लड़की ने ऐसे राज का पर्दा फाश किया कि पुलिस भी हैरान रह गई। लड़की ने बताया कि साल 2014 में मां के निधन के बाद वह अपनी मौसी के यहां रहने लगी। जहां उसकी मुलाकात चंदई ग्राम निवासी अजय कुशवाहा से हुई। यही से इस हैरान करने वाली घटना ने प्रेम प्रसंग का रूप ले लिया।

लड़की ने खोला हैरान कर देने वाला राज

लड़की के मुताबिक अजय से वह प्यार करने लगी थी। फिर एक दिन दोनों को लड़की की मौसी ने फोन पर बात करते पकड़ लिया और उसे जमकर डांट फटकार लगा दी। अपनी मौसी की बात से नाराज होकर लड़की चित्रकूट चली गई और वहां से कर्वी पहुंच गई। कर्वी पहुंचने के बाद उसने अजय कुशवाहा को भी वही बुला लिया। इसके बाद दोनों वह से इलाहाबाद चले गए। यह कहानी जितनी सुलझी हुई लग रही थी उतनी ही उलझती चली गयी। दरअसल, इलाहाबाद से किशोरी ने मुंबई में रहने वाली अपनी बड़ी बहन से फोन किया। इसके बाद उसकी बड़ी बहन ने उससे बताया की तुम तो मर चुकी हो तुम्हारा अंतिम संस्कार हो गया है।

अपनी बहन से फिर आगे की पूरी कहानी जानने के बाद वह बुरी रहत से डर गई। इसके बाद उसने डर कर इलाहाबाद छोड़ दिया और वहां से भागकर अपने दादा-दादी के गांव पहुंच गई। इसी बीच पुलिस को जांच पड़ताल में पता चला कि जिस युवती को अभी तक मृत समझा जा रहा था वह असल में जिंदा है। इसके बाद पुलिस ने लड़की को उसके दादा के गांव से बरामद कर लिया। हालांकि, अभी तक ये बात साफ नही हो सकी है की जिसका अंतिम संस्कार किया गया वो कौन थी?