जलाकर भी कोई भला इलाज करता है क्या? लेकिन यहाँ इलाज के लिए लगा दी जाती है शरीर पर आग, जानें

आग से इलाज: दुनिया में कई तरह के अजीबो-गरीब कारनामें देखने को मिलते हैं। यह दुनिया ऐसे कारनामों से भरी हुई है। यहाँ कई बार कुछ ऐसी चीजें देखने को मिल जाती हैं, जिसे देखने के बाद अपनी आँखों पर यकीन करना मुश्किल हो जाता है। जी हाँ अक्सर आपने लोगों का इलाज जड़ी-बूटियों या दवाइयों से करते हुए देखा होगा, लेकिन दुनिया में एक जगह ऐसी भी है जहाँ पर रोगों का इलाज व्यक्ति को जलाकर किया जाता है। क्यों? सुनकर हुई ना आपको भी हैरानी।

चीन अपनी इलाज पद्धतियों को लेकर है काफी प्रसिद्द:

जैसा की सभी लोग जानते हैं दुनिया में सैकड़ों देश हैं और हर देश किसी ना किसी काम के लिए मशहूर है। कुछ देश अपनी संस्कृति के लिए पूरी दुनिया में जानें जाते हैं तो कुछ देश अपनी किसी खास विशेषता की वजह से पूरी दुनिया में मशहूर है। ठीक वैसे ही भारत का पडोसी देश चीन अपनी प्राचीन इलाज की पद्दतियों के लिए प्रसिद्द है। चीन अपने पुराने इतिहास को लेकर काफी सजग रहता है। यही वजह है कि आज भी चीन में कई पुरानी चीजें देखने को मिल जाती हैं।

पिछले 100 सालों से अपनाई जा रही है यह थेरेपी:

चीन में बिमारियों का इलाज अनोखे तरीके से किया जाता है। कुछ बिमारियों के इलाज के लिए ऐसी थेरेपी भी अपनाई जाती है, जिसके बारे में जानकर ही आप हैरान हो जायेंगे। आपको बता दें इलाज करने वाला मरीज के शरीर पर पहले अल्कोहल का छिड़काव करता है, उसके बाद आग लगा देता है। कुछ लोग इसे एक खास तरह का इलाज कहते हैं, जिससे तनाव, बदहजमी, बाँझपन से लेकर कैंसर का इलाज किया जा सकता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें इस अद्भुत थेरेपी का नाम फायर थेरेपी है और यह पिछले 100 सालों से चीन में अपनाई जा रही है।

पक्षिमी और चीनी पद्धतियों को छोड़ दिया है पीछे:

आजकल इस थेरेपी के वीडियो सोशल मीडिया के कई प्लेटफ़ॉर्म पर तेजी से वायरल हो रहे हैं। हालाँकि इन वीडियो के माध्यम से आप यह नहीं जान पाएंगे कि यह थेरेपी सच में कारगर है या नहीं। इस थेरेपी के कारगर होने के भी कोई प्रमाण नहीं मिले हैं। आपको बता दें इस विधि से लोगों का इलाज करने के लिए झांग फेंगाओ काफी लोकप्रिय हैं। उनके अनुसार फायर थेरेपी मानव इतिहास की चौथी सबसे बड़ी क्रांति है। इसनें पक्षिमी और चीनी दोनों ही तरह की इलाज पद्धतियों को काफी पीछे छोड़ दिया है।

इस विधि से तुरंत पहुँचती है शरीर को राहत:

फेंगाओ अपने बीजिंग के एक छोटे से अपार्टमेंट में लोगों का इलाज करते हैं। पहले वो मरीज की पीठ पर जड़ी-बूटियों का लेप लगाते हैं, उसके बाद उसे एक तौलिये से ढक देते हैं। फिर उसपर पानी और अल्कोहल का छिड़काव करने के बाद आग लगा देते हैं। ऐसा कहा जाता है कि आग की गर्मी और जड़ी-बूटियों का मिश्रण तुरंत ही शरीर को राहत पहुँचाने का काम करता है। इलाज की यह विधि चीन की प्राचीन मान्यताओं पर आधारित है। इस विधि में शरीर की गर्मी और ठंढक के बीच सामंजस्य बनाने पर जोर दिया जाता है। फेंगाओ ने बताया कि शरीर की उपरी सहत को गर्म करके अन्दर की ठंढक को दूर किया जाता है।