आखिर इस पान में ऐसा क्या खास है कि सुहागरात वाले हर रोज दुकान के सामने लगाते हैं भीड़, जानें

तारा पान दूकान: अक्सर आपने लोगों को यह कहते हुए सुना होगा कि सुहागरात के समय व्यक्ति को पान खाना चाहिए। यह शुभ भी होता है और इसे अच्छा भी माना जाता है। यही वजह है कि एक पान की दुकान है, जिसके सामने हर रोज सुहागरात मनाने वालों की लम्बी लाइन लगती है। आखिर ऐसा क्या खास है इस दूकान की पान में? आपको बता दें कई ऐसे लोग हैं जो पान के बहुत शौक़ीन है। किसी जगह पर तो परम्परा है कि खाना खाने के बाद पान खाना ही है। बनारस का पान पूरे विश्व में प्रसिद्द है।

हर समय जमा रहती है दूकान पर भीड़:

आजकल भले ही पान की कई वेराइटी आ गयी हो लेकिन आज भी सबसे ज्यादा फेमस बनारसी पान ही है। जब शादी होती है तो कई जगहों पर उस दौरान दुल्हे को भी पान खिलाने का रिवाज है। आपने भी जीवन में कभी ना कभी पान का स्वाद चखा ही होगा। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे खास पान के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी खासियत के बारे में जानकर आपके पैरों तले की जमीन खिसकने वाली है। यह पान इतना ज्यादा खास है कि इसे खाने के लिए हर समय दूकान के बाहर भीड़ जमा रहती है।

सुहागरात मनाने वालों के बीच ज्यादा फेमस है पान:

आपको यह जानकर काफी हैरानी होगी कई पान खरीदने वालों की लाइन में सबसे ज्यादा वो लोग होते हैं जो पहली बार अपना सुहागरात मनाने जा रहे होते हैं। आखिर ऐसी कौन सी खास बात है कि सुहागरात मनाने वाले सबसे ज्यादा इस पान को खाने के लिए बेचैन रहते हैं? जानकारी के लिए आपको बता महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक बहुत ही फेमस पान की दूकान है। यह दूकान सुहागरात मनाने वाले लोगों के बीच कुछ ज्यादा ही फेमस है। तारा भंडार नाम की ये पान की दूकान कपल पान और कोहिनूर पान के लिए काफी फेमस है।

3-7 हजार रूपये होती है एक पान की कीमत:

अगर आप यह सोच रहे हैं कि ये पान भी आम पानों की तरह होते हैं और इनकी कीमत भी वैसी हो होती होगी तो आप गलत सोच रहे हैं। दरअसल यहाँ पर मिलने वाले खास पान की कीमत 3000 से लेकर 7000 तक है। इस पान की दूकान को मुहम्मद सरफुद्दीन सिद्दीकी चलाते हैं और उनका कहना है कि, हमारी दूकान पर ज्यादातर लोग कपल पान लेने के लिए आते हैं। हमारे पान पूरे देश में प्रसिद्द हैं। कपल पान और कोहिनूर पान खासतौर पर शादीशुदा लोगों के लिए ही तैयार किया जाता है।

यह पान काम करता है वियाग्रा की तरह:

इस पान की खास बात यह है कि इसे सुहागरात वाले दिन ही खाया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इसे खाने के बाद रोमांस करते समय व्यक्ति की क्षमता में बढ़ोत्तरी होती है। इसे खाने के बाद थूकना नहीं होता है, बल्कि इसे पूरा निगल जाना होता है। यह पान वियाग्रा की तरह काम करता है। इसमें कई चीजें मिलायी जाती हैं, जिसकी वजह से इसकी कीमत सामान्य पान से बहुत ज्यादा होती है। सरफुद्दीन का कहना है कि इस पान में वो सभी चीजें मिलायी जाती हैं जो नवाबों के पान में मिलाये जाते थे।

खास चीजें मिलाने की वजह से ही पान हो जाता है महंगा:

इस खास पान के अन्दर मस्क, केसर, जाफरान, गुलाब की पंखुडियां और साथ ही कई अन्य खास चीजें मिलायी जाती हैं। आपको बता दें एक किलो मस्क की कीमत लगभग 70 लाख रूपये होती है। वहीँ एक किलो केसर की कीमत 2 लाख रूपये होती है। इस पान में मिलाने के लिए खासतौर पर बंगाल से खास केसर मंगाया जाता है, जिसकी कीमत 6 लाख रूपये किलो होती है। जाफरान भी 5-6 लाख रूपये किलो मिलता है। गुलाब की पंखुड़ियों की कीमत भी 80 हजार रूपये किलो है। यही वजह है कि यह पान इतना महंगा होता है।